Monday, February 28, 2022

स्त्री- जीवन की प्रेरणा स्त्रोत। How To Motivate Yourself From Woman in Hindi। Stree- Jivan ki Prerana।

स्त्री- जीवन की प्रेरणा स्त्रोत। How To Motivate Yourself From Woman in Hindi

How To Motivate Yourself From Woman in Hindi

   दोस्तों, Motivation या Inspiration हमे आगे बढ़ने के लिए उम्मीद देते है, हमे बढ़ावा देते है। लेकिन कई बार सवाल आता है कि ये Motivation मिलेगा कहा से? अब हर कोई book या hobbies तो follow नही करेगा। तो ऐसे मे करेंगे क्या?
आज इसी सवाल का जवाब देने का मैं प्रयास करूंगा। Motivation सिर्फ किताबो से, पसंदीदा चीजो से थोड़ी न मिलता है! हम अपनी आसपास की परिस्थितियों को जानकर, समझकर भी तो Motivate हो सकते है। इसलिए आज जानेंगे प्रेरणा की उस स्रोत को जो आपके घर मे ही मौजूद होता है। वो है आपके घर की स्री- "How To Motivate Yourself From Woman in Hindi?"

प्रेरणा का स्रोत घर मे (Motivation at Home):-

   स्री, नारी, औरत, महिला इन अनेको नामों से उनको पहचाना जाता है। माँ, बीवी, बहन जैसे करीबी रिश्ते से सजाया जाता है। दोस्तों, स्री से जीवन की कठिनाइयों से आगे बढ़ने के लिए Motivation लिया जाए तो आप कभी उम्मीद नही खोयेंगे- "You Will Never Lost Hope" लेकिन कैसे? ये बताने से पहले में थोड़ी इनकी कहानी सुनाना चाहूंगा, जिससे Motivation अच्छे से समझा पाऊंगा।


   घर मे माँ या Wife के रूप में स्री रहती है। जो गांव में होगी तो खेती करती मिलेगी, या मजदूरी करती मिलेगी। शहर में होगी तो Job करती मिलेगी या Part Time Job करते मिलेगी और कही पर सिर्फ घर मे House Wife रहेगी। ये सभी, दिन की शुरुवात से काम शुरू करती है। घर के कामों से लेकर खाना बनाने तक, फिर खेती, मजदूरी या जॉब पर जाती है। शाम में घर आकर दोबारा खाना और घर का काम करती है। कितनी भी थकावट क्यों ना हो, कभी काम करने को मना नही करती। इन सब के बावजूद गलती से अगर वो बीमार हो जाती है, तो भी बाहर का नही लेकिन घर मे तो काम करती ही है। कहा से आती है इतना सब करने की ताकद, सब निभाने की ताकद? वो भी बिना शिकायत किये!!!
   दोस्तो दिनभर काम करके कितने पुरुष घर की स्री को शाम में किसी भी काम मे मदद करते है? शाम को पूरे दिन की थकावट के साथ घर तो आते सभी है, लेकिन आगे क्या? स्री और पुरुष गांव में दोनों काम करते है और अभी शहरो में भी ये आम बात है। लेकिन शाम को आकार आज भी गांव हो या शहर, स्री ही खाने से लेकर बाकी काम करती है। पहले के मुकाबले अब पुरुष भी काम मे साथ देने लगे है, मगर ऐसे पुरुष बहोत कम है। लेकिन उन में भी 50% से भी ज्यादा सिर्फ मजबूरी में ही हाथ बटाते है और ये सच्चाई है।

स्त्री- जीवन की सबसे बड़ी प्रेरणा (Stree- Jivan ki sabse badi Prerana):-

स्त्री- कैसे उनसे जीवन में प्रेरणा ले। How To Motivate Yourself From Woman in Hindi। Stree- kaise unse Jivan me Prerana le।

   दोस्तों, इतनी सारी मेहनत के बाद भी उनके चेहरे पर खुशी और संतुष्टि छलकती है, अगर कोई सिर्फ प्यार से तारीफ के दो बोल, बोल दे। यहा तक आपको लग सकता है कि उनके काम मे ज्यादा कुछ अलग नही है। मगर आपने कभी उनके मुश्किल दिनों में उनको शिकायत करते सुना है?
   शायद ये बात पढ़ने में, सोचने में आपको थोड़ी अलग लगे। लेकिन स्री- एक उम्र के बाद मासिक चक्र के उस भयानक तकलीफ से हर महीने गुजरती है। जिस दर्द को कोई पुरूष सहन नही कर सकता और उन्हें नौबत भी नही आती। ऐसे मुश्किल वक्त में भी घर की स्त्री अपने कार्यों को पूरा करती है। इतनी थकान के बावजूद घर मे सब के लिए खाना बनाती है, बाकी बहोत सारे काम करती है। फिर भी उन मुश्किल दिनों में भी कभी कोई complaint नही करती है। वो office में job पर भी जाती है और घर में सबकी मर्जी भी संभालती है। Office सब के जैसे उसे भी "कुछ आता नही" से लेकर, "अगर सुधार नही हुआ तो निकाल देंगे" तक कि बात सुननी पड़ती है। फिर भी कभी उसने घर के काम को नजर अंदाज नही किया होगा। घर जाने में late हुआ तो जल्दी खाना बनाने की जिम्मेदारी हो या फिर सुबह उठने में देर हुई तो सब काम निपटाकर On Time Office मे Log in करने की मशक्कत हो, उसमे कभी हार नही मानती। लेकिन कोई घरवाले बीमारी या मुश्किल दिनों में सिर्फ आराम करने का मौका देते है? इन सब कसरतों के बावजूद उनको कोई भी कभी घर मे शाबासी नही देता, उल्टा गड़बड़ हुई तो सुनाता है। कहा से आती है इतनी Dedication? इसी बात में हम सबको मिलता है एक Example, "True Motivational Story " का।

सीख:-

  तो यहा से हम अपनी कठिन समय मे मेहनत करने की सिख ले सकते है और उसी सिख से अपने आप को Difficult Situation से बाहर निकलने को उम्मीद दे सकते है। खुद को Motivate कर सकते है। चाहे Problems कितनी भी हो, कैसी भी हो। अगर वो हार नही मानती, अपने काम को नही भूलतीं, तो हम भी तो अपने Decided Goal की और बढ़ सकते है। दोस्तों, रास्ता जो चुन लिया है। उस पर बढ़ते रहेंगे एक ही विश्वास के साथ, तो हम चुनोतियों को पार कर सफल होंगे। तो आप हारोगे नही। अगर Fail भी हो शायद तो भी फिर लड़ने की उम्मीद नही गवाएंगे।

   दोस्तो इसी स्री को सम्मान देने की गुज़ारिश करता हु, और बताते हुए एक काव्य लिख-

" किसी की अगर माँ हो,
तो ममता का सागर हो तुम।"
"किसी की अगर बहन हो,
तो गलतियों को छुपाने का Secret Box हो तुम।"
"किसी की अगर दोस्त हो,
तो आगे बढ़ने का हौसला हो तुम।"
"किसी की अगर Wife हो,
तो जिंदगी भर का साथ हो तुम।"
"किसी की अगर बेटी हो,
तो खुशियों का पिटारा हो तुम।"
"किसी की अगर कुछ ना भी हो,
तो इस मिट्टी, इस देश की इज्जत हो तुम।"

   तो दोस्तो आशा करता हु की आज के इस लेख( How To Motivate Yourself From Woman in Hindi ) से आप को उम्मीद तो मिली होगी, मुझे comment कर के जरूर बताएं। साथ ही में मेरी अंत मे की गई कविता भी आपको पसंद आई होगी, ऐसी आशा करता हु।

अगर कोई बात आपको पसंद नही आई होगी, इसके लिए क्षमा चाहता हु और आपको पसंद आया हो मेरा विचार तो Share जरूर कीजिये और आगे पढ़ते रेहने के लिए Follow जरूर कीजिये।

★ पढ़ते रहिये। आगे बढ़ते रहिये। ★

7 comments:

  1. Khup sunder lines ahet kavitechya very nice keep it up

    ReplyDelete
  2. Your motivation, encouragement, and support constantly inspire me thank you

    ReplyDelete
  3. Thank you for your valuable feedback, I hope in future will encourage more people.

    ReplyDelete
  4. Great thought💛👍👌👌🙏🙏

    ReplyDelete
  5. It is not gambling, within the strict sense, if 먹튀검증사이트 a bet is laid on the difficulty of a sport of ability like billiards or soccer. The problem should rely upon chance, as in cube, or partly on chance, partly on ability, as in whist. Moreover, in ordinary parlance, a person who plays for small stakes to give zest to the game is not mentioned to gamble; gambling connotes enjoying in} for top stakes. The following rules apply to casual gamblers who aren't within the trade or business of gambling.

    ReplyDelete